children stories – अच्छे काम का अच्छा नतीजा

 

“श्याम आज तुम पुरे आधे घंटे लेट आये हो” श्याम जैसे ही अपनी class में आया उसके टीचर ने डाटते हुए बोला.

“सर मैं….वो….”

“ऐ….वो… कुछ नहीं चलेगा. मैं जनता हूँ तुमलोग ऐसे ही बहाने-बनाते रहते हो. उन्होंने एक डंडा उठाते हुए बोला- “जब ये पड़ेगा तब तुमको सारा ये…वो… समझ में आ जायेगा. सारे बहाने तुम्हारे खत्म हो जायेंगे.”

सारे class के बच्चे उसके तरफ देख रहे थे. श्याम कुछ कहना चाह रहा था. मगर उसके टीचर ने कुछ भी नहीं सुना. और उसके हाथो पर डंडे बरसा दिए. फिर उसे मुर्गा बनने का आदेश दे दिया.

 

children stories

 

children stories  – उसे पनिशमेंट भी मिला

 

“खड़े हो जाओ.” कुछ दिर बाद उसके टीचर ने खड़ा होने का आदेश देते हुए बोले.

“एक तो तुम पढने में औसत हो और ऊपर से लेट आते हो. कुछ नहीं कर पाओगे लाइफ में.” टीचर ने डाटते हुए बोला.

श्याम अब कुछ नहीं बोला. वह धीरे से जाकर अपनी सिट पर बैठ गया.

श्याम 6th class में पढता था. किसी से ज्यादा बोलता नहीं था. अपने में ही मशगुल रहता. पढने में भी तेज नहीं था. उसके टीचर के अनुसार औसत ही था. मगर रोज टाइम से class आता और टाइम से घर जाता. कभी भी लेट नहीं करता था. आज भी वह कुछ कहना चाह रहा था. मगर टीचर ने उसके बात सुनी ही नहीं. बेचारा चुप हो गया.

“श्याम तुम स्कूल लेट से गये थे.” घर पहुचते ही उसके मा उससे पूछा- “तुम्हारे टीचर का call आया था. बोल रहे थे की श्याम लेट से स्कूल आया.”

“हा माँ आज लेट हो गया था.” श्याम ने अपना बैग रखते हुए बड़े ही आराम से बोला.

 

children stories- माँ को सारा बात बताना

 

“मगर तुम तो यहाँ से टाइम से निकले थे. फिर लेट कैसे हो गये.”

“मैं टाइम से ही जा रहा था. मैं रोड से जा रहा था तभी देखा एक कुते का बच्चा रोड पर जोर-जोर से चिल्ला रहा था. उसे कोई कुछ नहीं कर रहा था. मैंने देखा तो उसके पैर से खून निकल रहे थे. फिर मैंने अपने रुमाल से उसे बांध दिया.

children stories

 

उसे भूख भी लगा था तो मै उसे अपना लंच खिला दिया और पानी भी पिला दिया. और ले जाकर उसको उसकी माँ के पास रख दिया.” सारी बात माँ को बताते हुए बोला.- “सर को भी बताना चाह रहा था मगर वो सुनी ही नहीं. मुझे डंडे भी मार दिए और मुर्गा भी बनाया.”

“तुमने कुछ गलती नहीं किया. तुमने बहुत ही अच्छा काम किया है. आ जाओ मेरी गोद में आओ. मैं अपनी हाथो से खाना खिलाती हूँ..” उसकी माँ ने मुस्कुराते हुए उसे गोद में उठा लिया.

, , ,

Post navigation

One thought on “children stories – अच्छे काम का अच्छा नतीजा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *