kids moral story – ईमानदारी का फल

kids moral story

 

चिंटू अभी 12 साल का लड़का था. उसके माँ-बाप दोनों ही गुजर गये थे. उसने कभी उनको देखा नहीं. उसको किसी ने उठाकर अनाथालय में रख आया था. वही उसका पालन-पोषण हुआ. वही के लड़के अब उसके साथी थे. उन्ही के साथ खेलता-कूदता. किसी तरह उनलोग के दिन बित रहे थे. कभी कोई कुछ लेकर आये. इसी इंतजार में दिन गुजर जाता.

कभी कभी कोई भला मानुष आ जाता तो कुछ अच्छा खाने को मिल जाता. एक बार एक आदमी आया उसने सभी के लिए एक-एक टीशर्ट लाया था. बहुत बड़ा आदमी था तभी तो इतने लड़के को कपडा दिया. काफी दिन हो गये. एक ही टीशर्ट पह-पहन कर पुरान हो गया. फिर और कोई ऐसा नहीं आया. पैर तो हर मौसम में खुले ही रहे. चाहे तपती गर्मी हो या बरसात या कड़ाके की ठण्ड. पैर तो अब लोहा बन गया था.  उस पर कुछ असर नहीं होता.

kids moral storykids moral story  — काम करने दुकान पर गया 

 

चिंटू ने काम करने के लिए इक किराना दुकान पर बात कर लिया. पहले तो इतने छोटे लड़के को कोई काम पर नहीं रखना चाह रहा था. बच्चा है क्या काम करेगा. काफी ढूंढने के बाद एक दुकान वाले को उस पर दया आ गई और उसे काम पर रखा लिया.  Short Children Story – प्यासा कौआ

वह स्कुल से छुटते ही दुकान पर आ जाता और रात में 8 बजे तक वह काम करता. इस तरह उसे कुछ कमाई होने लगा. जिससे वह अपना जरुरी समान और किताबे खरीदता.

 

kids moral story  – जब उसे पैसा मिला

 

आज रविवार था तो चिंटू जल्द ही दुकान पर आ गया. उस दिन दुकान पर भीड़ नही था दुकान के मालिक भी कुछ काम से चले गये. चिंटू दुकान पर अकेला था. वह कुछ ग्राहकों को निपटा कर दुकान के बहार आ कर बैठ गया. रविवार को उतने ग्राहक नहीं आते थे. वह दुकान के आगे बैठ गया. तभी उसे कोने में पडा कला बैग दिखाई पड़ा. वह उसे उठा लिया. उसे खोला तो उसके होश उड़ गया.  उसमे पैसो की गड्डी पड़ी थी. उसे समझ नहीं आ रहा था की क्या करे. उसका हाथ कपने लगा. वह सोचने लगा कोई देखेगा तो क्या सोचेगा. यही की इसने चोरी किया है है. नहीं……..नहीं मैंने चोरी नहीं किया है. अंकल को आते ही सारा पैसा दे दूंगा.

kids moral story

 

वह उस बैग को बंद करके दुकान के अंदर रख दिया. और बेसब्री से दुकान मालिक का इतजार करने लगा. काफिर देर बीत जाने के बाद दुकान मालिक आये वह कुछ परेशान लग रहे थे. उनके आते ही चिंटू ने बैग देते हुए सारा बात बता दिया.   A STORY FOR KIDS – शरारती बन्दर

kids moral story  – उसने सारा पैसा दे दिया

 

उसकी बात सुनते ही दुकान मालिक उस बैग को देखा और आखो से आंसू निकल पड़े उसने झट से चिंटू को गले लगा लिया.

यह पैसा उन्ही का था जिसे लिकर घर जा रहे थे. रखने के लिए. लेकिन जल्दी-जल्दी में वे भूल बैठे. घर जाकर याद आया की बैग है ही नहीं. रास्ते में जहाँ-जहाँ रुके थे. वहाँ गये मगर कही नहीं मिला. उनको यही लगा की अब नहीं मिलेगा. किसमे इतना ईमानदारी है की इतना पैसा दे दे. कोई नहीं देगा.

उन्होंने चिंटू को उसके ईमानदारी का इनाम भी दिया और अपने बटे के जैसा मानने लगे.

BEST STORY FOR KIDS-शरारती बन्दर (भाग-2)

kids moral story  – kids के लिए 

 

मोरल

  1. हमेशा ईमानदारी से रहो. कभी किसी से कुछ भी झूठ मत बोलो.
  2. ईमानदारी से कमाया हुआ धन ही ठहरता है बेईमानी का नहीं.
  3. इमानदार को सभी प्यार करते है बेईमान से नफरत. इसलिए हमेश ईमानदार बनो.
  4. चोरी कभी नहीं करना चाहिए. चोरी बुरी बात है.
  5. अगर इमानदार रहे तो एक दिन बड़ा आदमी जरुर बनोगे.

 

 

आपको यह story कैसा लगा जरुर कमेंट करे और आपके पास भी ऐसी story है तो हमे भेजिए.

 

motivation :-

 

 

 

share on—o–

, , ,

Post navigation

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *