Super sad true love story – कहानी एक धोखेबाज़ लड़की की.

Super sad true love story 

ट्रेन अपनी पूरी रफ़्तार से चल रही थी. मैं अपने बर्थ पर लेटा था. सोने का बहुत प्रयास किया मगर नींद नहीं आ रहा था. दिल में एक बेचैनी थी, दिल बार-बार जोर से धडकने लगता. ट्रेन में भीड़ होने के वावजूद खुद को अकेला महसूस कर रहा था. यादों से पीछा छूटने के लिए मैं उठ कर बैठ गया. बोतल से पानी निकला और पिया.

 

 

यादें और बढ़ गई. एक अजब सी बेचैनी, एक अजब सा एहसास. मैं अपना हाथ सीने पर रखा – दिल जोर-जोर से धड़क रहा था. जिस चीज से हम पीछा छुटते है वह और हमारे पीछे आती है. मैं उन यादों में बीते हुए पल में नहीं जाना चाहता था. जिसे मैं हमेशा के लिए छोड़ के जा रहा था. उन यादों से दूर, ‘बहुत दूर.’ फिर भी मैं खीचा हुआ उन यादो में चला जाता. आखे लाल हो जाती. दुसरे देख न ले ‘आसू’. यही सोच कर रोया भी नहीं.

Super sad true love story

Super sad true love story   – जब मैंने उस धोखेबाज़ को फिर से माफ़ किया 

 

“तुमको पता है रागिनी मैं तुमको कितना प्यार करता हूँ.” मैं उसका हाथ अपने हाथ में लेकर बोला था.

“हाँ पता है. ये कौन सी बताने वाली बात है.”

“तो फिर बार-बार ऐसा क्यों कर रही हो? एक बार माफ़ कर दिया – दो बार कर दिया. फिर भी?” मेरे आखो में आसू थे.

“अब ऐसा नहीं होगा पक्का. अब कभी ऐसा नहीं होगा. मैं तुम्हारी ही रहूंगी. अब किसी से भी बात नहीं करूंगी.”

उसके बातो में न प्यार था, न सांत्वना. बस एक झूठा फरेब. मैं उसकी आखो में देखा मेरे आसू का कोई महत्व नहीं था. एक सिकन भी नहीं था. उसके चेहरे पर. ऐसा कितनी बार हो चूका था. कितनी बार ही हम पढ़ते है जो आखो में आसू देगा वह प्यार नहीं कर सकता. और जो प्यार करेगा वह आखो में आसू नहीं आने देगा. यह सब जानने के बावजूद मैं उस फरेब पर विश्वास करता रहा. मैं अपने आप से झूठ बोलता रहा honest है वो. और उस honest को मैंने फिर से माफ़ कर दिया.

Super sad true love story

Super sad true love story  – मैं उसे छोड़ के हमेशा के लिए जा रहा था.

 

मेरे आने का समय खत्म हो रहा था.जाने से पहले मैं उससे एक बार मिलना चाह रहा था. जब उसके घर गया तो वह नहीं थी. मैंने उसे खोजा मगर कही भी दिखाई नहीं दी. मैं उसे call किया तो उसका mobile घर पर ही था. मैं बैठ कर उसका wait करने लगा. कुछ देर बाद उसके mobile पर message टोन बजा. मैं न चाहते हुए इसे खोल दिया. मैंने देखा तो मेरा दिल धडकने लगा.

“हेल्लो रागनी डार्लिंग कहा हो? यह कहा का पिक भेजी हो.” और भी बहुत कुछ था. मेरे होठो पर मुस्कान आई और दिमाग में हलचल होने लगा – “यह नहीं सुधरेगी. कब तक उसके पीछे भागोगे. अंत कर दो इस एक तरफ़ा रिश्ते को. जो रिश्ता कम बोझ ज्यादा हो गया है.

मैं उसे छोड़ के जा रहा था. हमेशा-हमेशा के लिए. मुझे पता था उसे कोई फर्क भी नहीं पड़ता.

Super sad true love story

Super sad true love story 

काफी रात हो चूका था. ट्रेन किसी स्टेशन पर रुकी थी. मैं भी ट्रेन से उतरा और प्लेटफार्म पर टहलने लगा. वहाँ से एक लड़का और लड़की एक दुसरे का हाथ पकडे जा रहे थे. मैंने उन्हें देखा और अपने आप से पूछा – “सच में ये लड़की इस से प्यार करती है? या यह भी धोखा दे रही है.”

 

 

आपको यह story कैसा लगा जरुर कमेंट करे. आपके पास भी अपनी story है तो हमे भेजिए हमलोग उसे publish करेंगे.

 

related love story :-

 

motivation :-

 

 

share on —

, ,

Post navigation

2 thoughts on “Super sad true love story – कहानी एक धोखेबाज़ लड़की की.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *