Valentine Day Love Poem – मैं तुमसे दूर हूँ.

 

आज  valentine Day  है. सभी अपना वैलेंटाइन एन्जॉय कर रहे है. और सभी को valentine Day की बधाई मेरे तरफ से. आप सभी के लिए एक valentine Day love poem है. आशा करता हूँ जरुर अच्छा लगेगा.

 

मैं तुमसे दूर हूँ,

तुम मुझसे दूर हो,

नहीं है मेरा कोई भी,

बस तुम मेरी वैलेंटाइन हो.

 

हो गये है हम तुमसे जुदा,

ये तो बस किस्मत का खेल है,

मिल गया तुमको और भी कोई,

ये भी तो किस्मत का खेल है.

 

तुम वहाँ मनाओ वैलेंटाइन,

मैं भी यहाँ मनाऊंगा,  love story in Hindi – प्यार बड़ा या पैसा

बनाकर जाम आसुओ का,

मैं भी वैलेंटाइन मनाऊंगा.

 

उन आंसुओ के नशा में

मैं तो डूब जाऊंगा,

फिर भी जो आएगी याद तेरी,

तो और भी आसू बहाऊंगा.

Valentine Day Love Poem

valentine day  – ‘लाल’ रंग मेरे खून का.

 

sad love poem – जा भुला दिया तुझे,

निकालकर कर अपना खून लाल,

उसका गुलाब बनाऊंगा,

गुलाब से भी गहरा होगा,

‘लाल’ रंग मेरे खून का.

 

मैं तुमसे दूर हूँ,

तुम मुझसे दूर हो,

नहीं है मेरा कोई भी,

बस तुम मेरी वैलेंटाइन हो.

 

Mother poem – एक प्यारी सी poem “माँ” के लिए

होगा नहीं याद तुमको,

तुम कभी मेरी भी वैलेंटाइन थी,

दिया था जब तुमको rose,

कितना तुम मुस्कराई थी.

 

मेरी तो जान थी तेरी मुस्कराहट,

जीने का वजह थी तेरी मुस्कराहट,

जितनी बार देखता, कम था,

तेरे होठो से निकली मुस्कराहट.

Valentine Day Love Poem

valentine day  – मुस्कराना भी भूल गया हूँ,

            

 

अब तो यह अफसाना बन गया,

मैं तो रहा ही नहीं,

तू अब किसी और के,

जीने का सहारा बन गया.

very sad love story in Hindi – प्यार में दगा दिया मैंने.

बढ़ गये तुम बहुत आगे,

छोड़ उन कटीली राहों में,

मैं खड़ा रहा तेरे इतंजार में,

एक बार तो मुड़ कर देखा होता.

 

तू नहीं है तो कुछ नहीं है,

आकर देख मेरे जीवन में,

मुस्कराना भी भूल गया हूँ,

आकर देख मेरे होठो में.

 

अधूरे है हम,

और अधुरा है वैलेंटाइन मेरा,

मगर पूरी रहो तुम और,

पूरा रहे वैलेंटाइन तुम्हारा.

valentine day  –  बस तुम मेरी वैलेंटाइन हो.

 

Valentine Day Love Poem

मैं तुमसे दूर हूँ,

तुम मुझसे दूर हो,

नहीं है मेरा कोई भी,

बस तुम मेरी वैलेंटाइन हो.

 

 

आपको याह पोएम कैसा लगा जरुर कमेंट करे. और share करे.

share on:-

 

, , ,

Post navigation

One thought on “Valentine Day Love Poem – मैं तुमसे दूर हूँ.

  1. I hardly leave a response, however after reading through a few of the comments on Coping with Old Age is woââ¬Ã¢m‚na„¢s greatest dread | My Aging and Wellness. I actually do have a couple of questions for you if it’s okay. Is it simply me or do a few of these responses look like they are left by brain dead visitors? And, if you are writing at other online sites, I’d like to follow you. Could you post a list of all of all your social community pages like your linkedin profile, Facebook page or twitter feed?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *